dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes – famous 40 in Hindi and English

Dayanand Saraswati Quotes . Dayanand Saraswati Quotes on his birth anniversary. Dayanand Saraswati Quotes his famous 40 quotes are here in English and Hindi.

What is the slogan of Dayanand Saraswati? Dayanand Saraswati Quotes

“Back to Vedas.”

ALso Read Famous Subhash Chandra Bose Quotes In Hindi And English

What is the real name of Swami Dayanand Saraswati?Dayanand Saraswati Quotes

Mula Sankara.

Who was the spiritual teacher of Dayanand Saraswati?Dayanand Saraswati Quotes

Virajanand Dandeesha.

dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes

दुनिया को अपना सर्वश्रेष्ठ दीजिए और आपके पास सर्वश्रेष्ठ लौटकर आएगा |” source- aajtak

“काम करने से पहले सोचना बुद्धिमानी, काम करते हुए सूचना सतर्कता है |”
source- thinkright.me.hindi

“मोह जाल की तरह होता है इसमें जो उलझ गया वह पूरी तरह से उलझ जाता है |”
source- bhaktisarovar

“जो कभी सुबह और संध्या के समय प्रार्थना नहीं करता, वह रूद्र के रूप में जाना जाता है |”
source- bhaktisarovar

“सबसे उच्च चोटी की सेवा ऐसे व्यक्ति की सेवा करना है जो बदले में आपको धन्यवाद कहने में असमर्थ हो |”
source- bhaktisarovar

“वेदों में वर्णित सार का पान करने वाले हैं ये जान सकते हैं के जीवन का मूल बिन्दु क्या है |”
source- bhaktisarovar

“जिह्वा को उसे व्यक्त करना चाहिए जो हृदय में है |”
source- bhaktisarovar

“आत्मा अपने स्वरूप में एक है , लेकिन उसके अस्तित्व अनेक हैं |”
source- bhaktisarovar

“जिसने भी अहंकार किया है, उसका पतन अवश्य हुआ है |”
source- bhaktisarovar

“सबकी उन्नति में ही अपनी उन्नति समझनी चाहिए |”
source- bhaktisarovar

dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes in Hindi

“अज्ञानी होना गलत नहीं है, अज्ञानी बने रहना गलत है |”
source- bhaktisarovar

“किसी भी रुप में प्रार्थना प्रभावी है क्योंकि यह एक क्रिया है जिसका परिणाम होगा | यह एक ब्रह्मांड का नियम है जिसमें हम खुद को पाते हैं |”
source- manojdesigner_official

“मनुष्य को अपने नश्वर शरीर के बजाय ईश्वर से प्रेम करना चाहिए और सत्त्व व धर्म के मार्ग पर चलना चाहिए |”
source- djjsworld

“धन एक व्यस्त हूं है जो इमानदारी और न्याय से कमाई जाती है इसका विपरीत है अधर्म और खजाना |”
source- isunilanand

“मनुष्य की विद्या उसका अस्त्र है, धर्म उसका रथ, सत्य उसका सारथी और उसकी भक्ति ‘रथ के घोड़े’ होते हैं |”

“जो व्यक्ति सबसे कम ग्रहण करता है और सबसे अधिक योगदान देता है वह परिपक्कव है, क्योंकि जीने मेंही आत्म-विकास निहित है।”

“क्रोध का भोजन ‘विवेक’ है, अतः इससे बचके रहना चाहिए, क्योकी विवेक नष्ट हो जाने पर सब कुछ नष्ट हो जाता है |”

“जो लोग दूसरों की मदद करते हैं वो एक तरह से भगवान की मदद करते हैं | “

“गीत व्यक्ति के मर्म का आह्वान करने में मदद करता है। बिना गीत के, मर्म को छूना मुश्किल है |”

“अहंकार आने पर मनुष्य के भीतर वो स्थितआ जाती है, जब वह अपना आत्मबलऔर और आत्मज्ञानको खो देता है |”

dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes

“माफ़ कर देना हर किसी के बस की बात नहीं है। क्योंकि यह विवेकशील लोगों को काम होता है |”

“प्रबुद्ध होना ; ये कोई घटना नहीं हो सकती। जो कुछ भी यहाँ है ; वह अद्वैत है। ये कैसे हो सकता है? यह स्पष्टता है |”

“मानव जीवन मे ‘तृष्णा’ और ‘लालसा’ यह दोनों दुखः के मूल कारण है |”

“हर कोई ये जानता है, मृत्यु को टाला नहीं जा सकता। फिर भी अधिकतर लोग अन्दर से इसे नहीं मानते। सोचते हैं ‘ये मेरे साथ नहीं होगा।’ इस कारण से मृत्यु सबसे कठिन चुनौती है, जिसका मनुष्य को सामना करना पड़ता है |”

“जिसको परमात्मा और जीवात्मा का यथार्थ ज्ञान हो। जो आलस्य को छोड़कर सदा उद्योगी, सुख दुःख आदि का सहन, धर्म का नित्य सेवन करने वाला हो, जिसको कोई पदार्थ धर्म से छुड़ा कर अधर्म की ओर न खींच सके, वह पण्डित कहाता है |”

“वेदों, पुराणों में जो कुछ बताया गया है, यदि हम उसका पालन करें तो हम जान जायेंगे की जीवन को असली उद्देश्य क्या है |”

“वर्तमान जीवन का कार्य अंधविश्वास पर पूर्ण भरोसे से अधिक महत्त्वपूर्ण है |”

“संस्कार मानव के आचरण’ की नीव होती है। ‘संस्कार जितने गहरे होते हैं, उतना ही अडिग मनुष्य अपने कर्तव्य पर, अपने धर्म पर, सत्य पर और न्याय पर होता है |”

“उस सर्वव्यापक ईश्वर को योग द्वारा जान लेने पर हृदय की अविद्यारुपी गांठ कट जाती है, सभी प्रकार के संशय दूर हो जाते है और भविष्य में किये जा सकने वाले पाप कर्म नष्ट हो जाते है अर्थात ईश्वर को जान लेने पर व्यक्ति भविष्य में पाप नहीं करता |”

dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes

“लोगों को भगवान् को जानना और उनके कार्यों की नक़ल करनी चाहिए। पुनरावृत्ति और औपचारिकताएं किसी काम की नहीं हैं |”

“निरीह सुख सत्कर्म करने और नेक तरीके से धन को अर्जित करने से प्राप्त होता है।”

“लोगों को कभी भी चित्रों की पूजा नहीं करनी चाहिए। मानसिक अन्धकार का फैलाव मूर्ति पूजा के प्रचलन की वजह से ही है |”

“यदि मनुष्य का मन शाँन्त है, चित्त प्रसन्न है और ह्रदय हर्षित है, तो निश्चय ही ये अच्छे कर्मो का फल है |”

“आत्मा ‘परमात्मा’ का ही एक अंश है जिसे हम अपने कर्मो द्वारा गति प्रदान करते हैं। फिर आत्मा हमारी दशा तय करती है |”

“ईश्वर पूर्ण रूप से पवित्र और बुद्धिमान है। उसकी प्रकृति, गुण, और शक्तियां सभी पवित्र हैं। वह सर्वव्यापी, निराकार, अजन्मा, अपार, सर्वज्ञ, सर्वशक्तिशाली, दयालु और न्याययुक्त है। वह दुनिया का रचनाकार, रक्षक, और संघारक है |”

“भगवान का ना कोई रूप है ना रंग है। वह अविनाशी और अपार है। जो भी इस दुनिया में दिखता है वह उसकी महानता का वर्णन करता है |”

“मोक्ष पीड़ा सहने और जन्म-मृत्यु की अधीनता से मुक्ति है, और यह भगवान की अपारता में स्वतंत्रता और प्रसन्नता का जीवन है |”

“जिस मनुष्य मे संतुष्टि के अंकुर फुट गये हों, वह इस संसार के सुखी मनुष्यों मे गिना जाता है |”

dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes in English

“Give your best to the world and the best will come back to you.”
source- indiatoday

“The greatest musical instrument given to mankind is the voice.”
source- kaira_guntur_n_ongole

“It is wise to think before working, information is alert while working.”

“The fascination is like a trap, what gets entangled in it becomes completely entangled.”

“He who never prays in the morning and evening is known as Rudra.”

“The highest peak service is to serve a person who is unable to say thank you in return.”

“Those who follow the essence described in the Vedas can know what is the basic point of life.”

“The tongue should express what is in the heart.”

dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes

“The soul is one in its nature, but its entities are many.”
source- udaimedian

“Whoever has arrogance must have fallen.”

“Everyone should understand their own progress.

“It is not wrong to be ignorant, it is wrong to remain ignorant.”

“Prayer in any form is effective because it is an action that will result. It is the law of a universe in which we find ourselves.”

“Man should love God instead of his mortal body and walk on the path of Sattva and Dharma.”

“Money is a busy thing, which is earned by honesty and justice. Its opposite is iniquity and treasure.”

“Man’s learning is his weapon, religion is his chariot, truth is his charioteer and his devotion is ‘horse of chariot’.”

dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes

“The person who eats the least and contributes the most is the matriarchy, because self-development is inherent in living.”

“The food of anger is the ‘conscience’, so it should be avoided, because everything is destroyed when the conscience is destroyed.”

“People who help others help God in a way.”

“The song helps to invoke one’s heart. Without a song, it is difficult to touch one’s heart.”

“When ego comes, it gets inside the human being, when he loses his self-strength and self-knowledge.”

“Forgiveness is not a matter of everyone. It is for the wise people.”

“To be enlightened; it cannot be an event. Whatever is here; it is monogamous. How can it be? It is clarity.”

“Both ‘trishna’ and ‘longing’ in human life are the root cause of sorrow.”

Dayanand Saraswati Quotes

“Everyone knows this, death cannot be avoided. Yet most people do not believe it from the inside. They think ‘This will not happen to me.’ Because of this, death is the most difficult challenge that a human being has to face.  | “

“One who has a true knowledge of the divine and the living soul. Who, except for laziness, is always a businessman, tolerant of happiness, sorrow etc., who is a regular eater of religion, whom no substance can get rid of religion and draw it towards unrighteousness,” he is called a pandit.  “

“If we follow what has been told in the Vedas and Puranas, then we will know what the real purpose of life is.”

“The work of the present life is more important than absolute trust in superstition.”

“Sanskar is the foundation of human conduct”. The deeper the rites, the more stubborn a man is on his duty, on his religion, on truth and on justice. “

“After knowing that all-pervading God by yoga, the inexplicable lump of the heart is cut off, all kinds of doubts are removed and the sins committed in the future are destroyed. 

“People should try to know God and imitate him in their works. Repetitions and ceremonials are of no use.”                                                                 source- fmsirm

“Immaculate pleasure is obtained by performing good deeds and earning wealth in a good way.”

dayanand saraswati quotes

Dayanand Saraswati Quotes

“People should never worship pictures. The spread of mental darkness is due to the practice of idol worship.”

“If the mind of man is peaceful, the mind is happy and the heart is happy, then surely it is the fruit of good deeds.”

“The soul is only a part of the ‘divine’ that we move by our actions. Then the soul determines our condition.”

“God is absolutely holy and wise. His nature, virtues, and powers are all holy. He is omnipresent, formless, unborn, inexhaustible, omnipotent, omnipotent, merciful and just. He is the Creator, Protector, and Creator of the world.  “

“God has no form or color. He is indestructible and immense. Whoever appears in this world describes his greatness.”

“Moksha is liberation from suffering and subjection to birth and death, and it is a life of freedom and happiness in God’s opulence.”

“The person in whom the sprouts of satisfaction are gone, he is counted among the happiest people of this world.”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *