Rahat Indori Shayari In Hindi:Rahat Indori Shayari On Life

Rahat Indori Shayari In Hindi: Most Popular and Heart touching Shayari 2021

Rahat Indori Shayari In Hindi

Rahat Qureshi, later known as Rahat Indori. He was born on 1 January 1950 in  Indore. He died on 11 August 2020 in a hospital from cardiac arrest. Rahat Indori was an Indian Bollywood lyricist and Urdu poet. He was also a former professor of Urdu language and a painter. His poetry touched the hearts of many people. Here are some of his Shayari and poetry that will fill your heart with emotions. scroll down and give it a read.

Rahat Indori Shayari In Hindi Images

rahat indori quotes 11

ये हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था
मैं बच भी जाता तो एक रोज मरने वाला था |
Ye haadasa to kisee din gujarane vaala tha
main bach bhee jaata to ek roj marane vaala tha.

rahat indori quotes 12

तूफ़ानों से आँख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो |
Toofaanon se aankh milao, sailaabon par vaar karo
mallaahon ka chakkar chhodo, tair ke dariya paar karo.

rahat indori quotes 13

ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे
जो हो परदेस में वो किससे रज़ाई मांगे |
Aisee sardee hai ki sooraj bhee duhaee maange
jo ho parades mein vo kisase razaee maange.

Rahat Indori Sad Shayari 2 Line

rahat indori quotes 14

जुबां तो खोल, नजर तो मिला, जवाब तो दे
मैं कितनी बार लुटा हूँ, हिसाब तो दे
jubaan to khol, najar to mila, javaab to de
main kitanee baar luta hoon, hisaab to de.

rahat indori quotes 15

फूलों की दुकानें खोलो, खुशबू का व्यापार करो
इश्क़ खता है तो, ये खता एक बार नहीं, सौ बार करो
phoolon kee dukaanen kholo, khushaboo ka vyaapaar karo
ishq khata hai to, ye khata ek baar nahin, sau baar karo.

rahat indori quotes 16

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो
Aankh mein paanee rakho honton pe chingaaree rakho
zinda rahana hai to tarakeeben bahut saaree rakho.

Rahat Indori Shayari In Hindi Audio Download

rahat indori quotes 17

किसने दस्तक दी, दिल पे, ये कौन है
आप तो अन्दर हैं, बाहर कौन है |
kisane dastak dee, dil pe, ye kaun hai
aap to andar hain, baahar kaun hai.

rahat indori quotes 18

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है
Roz taaron ko numaish mein khalal padata hai
chaand paagal hai andhere mein nikal padata hai.

rahat indori quotes 19

इन रातों से अपना रिश्ता जाने कैसा रिश्ता है
नींदें कमरों में जागी हैं ख़्वाब छतों पर बिखरे हैं
In raaton se apana rishta jaane kaisa rishta hai
neenden kamaron mein jaagee hain khvaab chhaton par bikhare hain.

Rahat Indori Shayari On Politics In Hindi

rahat indori quotes 20

मोड़ होता है जवानी का सँभलने के लिए
और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूं हैं
mod hota hai javaanee ka sanbhalane ke lie
aur sab log yaheen aa ke phisalate kyoon hain.

Also read:-

gulzar shayari on zindagi

GULZAR SHAYARI HINDI: HEART TOUCHING POETRIES AND SHAYARI

Rahat Indori Shayari In Hindi:Heart touching

Rahat Indori Shayari In text 1

तुम्हारे नाम के कई लोगों से
मिला हूँ, पर तुम्हारा नाम सिर्फ तुम पर ही अच्छा लगता है.
Tumhaare naam ke kaee logon se
mila hoon, par tumhaara naam
sirph tum par hee achchha lagata hai.

Rahat Indori Motivational Shayari In Hindi

Rahat Indori Shayari In text 3

मैं घर का बड़ा था
और करता भी तो क्या?
दूसरे ही दिन भूल गया उसे.
Main ghar ka bada tha
aur karata bhee to kya?
doosare hee din bhool gaya use.

Rahat Indori Shayari In text 4

अजीब सी बेताबी है
तेरे बिना, रह भी लेते है और
रहा भी नही जाता.
Ajeeb see betaabee hai
tere bina, rah bhee lete hai aur
raha bhee nahee jaata.

Rahat Indori Shayari In English

Rahat Indori Shayari In text 5

बात करने को तरसा हूँ,
आवाज़ सुनने को तरसोगी.
Baat karane ko tarasa hoon,
aavaaz sunane ko tarasogee.

Rahat Indori Shayari In text 6

वो मुझे अभी तक याद है,
और लानत है
ऐसी यादास्त पे.
Vo mujhe abhee tak yaad hai,
aur laanat hai
aisee yaadaast pe.

Rahat Indori Shayari On Life

Rahat Indori Shayari In text 7

किससे प्यार करें
किससे ना करें,
हमारे हाथ में कहाँ
होता है..
Kisase pyaar karen
kisase na karen,
hamaare haath mein kahaan
hota hai..

Rahat Indori Shayari In text 8

वही मुझको अकेला
कर गया,
जो दुआ में मुझे माँगता
था कभी.
Vahee mujhako akela
kar gaya,
jo dua mein mujhe maangata
tha kabhee.

Rahat Indori Shayari Rekhta

Rahat Indori Shayari In text 9

पता तो मुझे भी था कि
लोग बदल जाते हैं,
पर मैंने कभी तुम्हें उन
लोगों में गिना ही नहीं था.
Pata to mujhe bhee tha ki
log badal jaate hain,
par mainne kabhee tumhen un
logon mein gina hee nahin tha.

Rahat Indori Shayari In text 10

जिनके साथ जिंदगी जीने के
सपने देखे थे,
वो अब सपने मे भी
नहीं आते.
Jinake saath jindagee jeene ke
sapane dekhe the,
vo ab sapane me bhee
nahin aate.

Untitled design 1

बेहतरीन इंसान वो है
जो देर से नाराज होता है,
और जल्दी मान जाता है।।
Behatareen insaan vo hai
jo der se naaraaj hota hai,
aur jaldee maan jaata hai..

Rahat Indori Shayari In text 11

जब तक खुद पर ना बीते,
लोगो को दसरे के दर्द का
अहसास नही होता…
Jab tak khud par na beete,
logo ko dasare ke dard ka
ahasaas nahee hota…

जा के ये कह दो कोई शोलो से, चिंगारी से फूल इस बार खिले है
बड़ी तय्यारी से बादशाहों से भी फेंके हुए सिक्के
ना लिए हमने ख़ैरात भी माँगी है तो ख़ुद्दारी से।
Ja ke ye kah do koee sholo se, chingaaree se phool is baar khile hai
badee tayyaaree se baadashaahon se bhee phenke hue sikke
na lie hamane khairaat bhee maangee hai to khuddaaree se.

प्यास तो अपनी सात समन्दर जैसी थी,
ना हक हमने बारिश का अहसान लिया।
Pyaas to apanee saat samandar jaisee thee,
na hak hamane baarish ka ahasaan liya.

फूक़ डालूगा मैं किसी रोज़ दिल की दुनिया ये
तेरा ख़त तो नहीं है की जला भी न सकूं।
Phooq daalooga main kisee roz dil kee duniya ye
tera khat to nahin hai kee jala bhee na sakoon.

एक ही नदी के है यह दो किनारे दोस्तो
दोस्ताना ज़िन्दगी से, मौत से यारी रखो।
Ek hee nadee ke hai yah do kinaare dosto
dostaana zindagee se, maut se yaaree rakho.

शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं है हम
आँधी से कोई कह दे के औकात में रहे।
Shaakhon se toot jae vo patte nahin hai ham
aandhee se koee kah de ke aukaat mein rahe.

लोग हर मोड़ पे रूक रूक के संभलते क्यूँ है
इतना डरते है तो घर से निकलते क्यूँ है।
Log har mod pe rook rook ke sambhalate kyoon hai
itana darate hai to ghar se nikalate kyoon hai.

दो ग़ज सही ये मेरी मिल्कियत तो है
ऐ मौत तूने मुझे जमींदार कर दिया।
Do gaj sahee ye meree milkiyat to hai
ai maut toone mujhe jameendaar kar diya.

हर एक हर्फ का अन्दाज बदल रक्खा है
आज से हमने तेरा नाम ग़ज़ल रक्खा है
मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया
मेरे कमरे में भी एक ताजमहल रक्खा है।
Har ek harph ka andaaj badal rakkha hai
aaj se hamane tera naam gazal rakkha hai
mainne shaahon kee mohabbat ka bharam tod diya
mere kamare mein bhee ek taajamahal rakkha hai.

ना हम-सफ़र ना किसी हम-नशीं से निकलेगा
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा।
Na ham-safar na kisee ham-nasheen se nikalega
hamaare paanv ka kaanta hameen se nikalega.

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाय।
Bahut guroor hai dariya ko apane hone par
jo meree pyaas se ulajhe to dhajjiyaan ud jaay.

छू गया जब कभी ख़याल तेरा दिल मेरा देर तक
धड़कता रहा। कल तेरा जिक्र छिड़ गया था घर
में और घर देर तक महकता रहा।
Chhoo gaya jab kabhee khayaal tera dil mera der tak
dhadakata raha. kal tera jikr chhid gaya tha ghar
mein aur ghar der tak mahakata raha.

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी की ऐसे ही छोड़ दूंगा उसे।
Maza chakha ke hee maana hoon main bhee duniya ko
samajh rahee thee kee aise hee chhod doonga use.

नये किरदार आते जा रहे है
मगर नाटक पुराना चल रहा है।
Naye kiradaar aate ja rahe hai
magar naatak puraana chal raha hai.

उस की याद आई है, साँसों ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनो से भी इबादत में ख़लल पड़ता है।
Us kee yaad aaee hai, saanson zara aahista chalo
dhadakano se bhee ibaadat mein khalal padata hai.

मैं वो दरिया हूँ की हर बूंद भँवर है जिसकी,
तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।
Main vo dariya hoon kee har boond bhanvar hai jisakee,
tumane achchha hee kiya mujhase kinaara karake.

कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं,
कभी धुए की तरह परबतों से उड़ते हैं,
ये कैंचियाँ हमें उड़ने से ख़ाक रोकेंगी,
के हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं…
Kabhee mahak kee tarah ham gulon se udate hain,
kabhee dhue kee tarah parabaton se udate hain,
ye kainchiyaan hamen udane se khaak rokengee,
ke ham paron se nahin hausalon se udate hain…

लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,
पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,
उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।
Loo bhee chalatee thee to baade-shaba kahate the,
paanv phailaaye andhero ko diya kahate the,
unaka anjaam tujhe yaad nahee hai shaayad,
aur bhee log the jo khud ko khuda kahate the.

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।
Ab na main hoon, na baakee hain zamaane mere​,
phir bhee mashahoor hain shaharon mein fasaane mere​,
zindagee hai to nae zakhm bhee lag jaenge​,
ab bhee baakee hain kaee dost puraane mere.


अब आयें या न आयें इधर पूछते चलो,
क्या चाहती है उनकी नजर पूछते चलो,
हम से अगर है तर्क-ए-ताल्लुक तो क्या हुआ,
यारो कोई तो उनकी खबर पूछते चलो।
Ab aayen ya na aayen idhar poochhate chalo,
kya chaahatee hai unakee najar poochhate chalo,
ham se agar hai tark-e-taalluk to kya hua,
yaaro koee to unakee khabar poochhate chalo.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *