Shayari On Death Saddest And Savage 85+ Hindi Death Shayari

Shayari on Death Saddest and Savage 85+ Hindi death Shayari

Shayari on Death. Death the most unpredictable thing. But everyone feared of it. Yet we talk about this the most. Collection of shayari on Death in Hindi and English are here. Some handpicked best shayari on death. Best, saddest, savage and attitude shayari on death. Shayari on death in Hindi.

Shayari on Death

Shayari on Death

मैंने ख्वाबों में मौत देखी है,
लेकिन रोने वालों में तुम नहीं थे।
Abhinav
Meine khwaabo me maut dekhi hai,
Lekin rone waalon mein tum nahi the.

में अपने दुख को कमाल लिखूंगा,
मौत का दीपक बवाल लिखूंगा।
Strange
Main apne dukh ko kamaal likhunga,
Maut ka dipaak bawaal likhunga.

रूला कर उसे गुनाह कर दिया है,
अब खुद को माफ ना कर पाऊंगा,
मुझे मौत बक्श दे अब मेरे खुदा,
इस तरह तड़प कर न जी पाऊंगा।
Broken
Rula kar use gunaah kar diya hai,
Ab khud ko maaf na kar pauunga,
Mujhe maut baksh de ab mere khuda,
Us tarah tadap kar na ji pauunga.

इस साल का मौसम ही नम,
चारों तरफ सांसें है कम,
इंसान हारा जिंदगी से,
मौत दिखलाती है दम,
इस साल का मौसम है नम।
Dr. Seema Singh
Is saal ka mausam hi nam hai,
Charo taraf saasein hai kam,
Insaan hara zindagi se,
Maut dikhlati hai dum,
Is sal ka mausam hai nam.

Also check out this post – Attitude Captions For Instagram In Hindi Best 30

Shayari on Death - मौत स्टेटस इन हिंदी

Shayari on Death – मौत स्टेटस इन हिंदी

याद में तेरी आहें भरता है कोई,
हर सास के साथ तुझे याद करता है कोई,
मौत सच्चाई है एक रोज आनी है,
तेरी जुदाई में हर रोज मरता है कोई।
Vj
Yaad mei teri aahein bharta hai koi,
Har saas ke sarg tujhe yaad karta hai koi,
Maut sachhyi hai ek roj aani hai,
Teri judai mein har roj marta hai koi.

जिंदगी मौत से अनजान,
मौत जिंदगी से हैरान है,
मौत एक काला सच,
ज़िंदगी टूटता शीशे का मकान है।
Aadi
Zindagi maut se anjaan,
Maut zindagi se heyraan hai,
Maut ek kala sach,
Zindagi tutata shishe ka makaan hai.

चलो आज मिलकर सब ये दुआ करे,
अपनी जिंदगी का एक दिन कम, रोशन किसी का जहा करे।
Hans 11
Chalo aaj milkar sab yr dua kare
Apni zindagi ka ek din km, roshan kisi ka jaha kare.

Shayari on Death

Shayari on Death

लौट जाती है दुनिया गम हमारा देख कर,
जैसे लौट जाती है लहरे किनारा देख कर,
तुम कांधा न देना मेरे जनाजे को,
कही फिर से जिंदा ना हो जाऊं तेरा सहारा देख कर।
Manthan’s_kalam
Laut jaati hai duniya gam hamara dekh kar,
Jaise laut jaati hai lehrein kinara dekh kar,
Tum kadhaa na dene mere janaje ko,
Kahi Fhir se zinda na ho jati tera shara dekh kar.

आज एक रूह से हुई थी मुलाकात ख्वाबों में मेरे,
सवाल था मन में उसके,
की एक हादसा था मेरी मौत,
लोगो ने तमाशा क्यों बना दिया।
Anjalee
Aaj ek ruh se hui thi mulakaat khwabon mein mere,
Sawal tha man mein uske,
Ki ek hadasa tha meri maut,
Logo ne tamasha kyun bna diya.

तमाम कायनात में एक कातिल बीमारी की हवा हो गई,
वक्त ने कैसा सितम किया,
की दूरियां दवा हो गई।
Bilal khan
Tamam qayamat mein ek katil bimari hi hawa ho gyi,
Wakt ne kaisa sitam kiya,
Ki dooriyan dawa ho gyi.

खेल मुकदार का कुछ इस तरह सा बदला है,
सास लेके भी मर रहे है और लेने को भी मर रहे है।
Ruh
Khel mukadar ka kuch is tarah sa badla hai,
Saas leke bhi mar rahe hai aur leke ko bhi mar rhe hai.

Shayari on Death - सैड डेथ शायरी हिंदी

Shayari on Death – सैड डेथ शायरी हिंदी

कोई मौत से कहो की आकर हमसे मिले,
अब ये जिंदगी हमको बेवजह सताने लगी है।
Lk Vikash Mishra
Koi maut se kaho ki aa kar humse mile,
Ab ye zindagi bewajah sataane lagi hai.

आज मौत का फरिश्ता आया तो खुश हुआ में,
चलो इसी बहाने तन्हाई से तो झुटकारा मिला मुझे।
@evengodwillrememberyou
Aaj maut ka farishta aaya toh khush hua main,
Chalo isi bahane rangati se toh chhutkara mila mujhe.

मौत तेरा दर नहीं,
तेरा तो इंतजार है,
तुझे मिलकर हर पल मरने की,
यादें जो ताजा करनी है।
@diksha.johri
Maut tera dar nahi,
Tera toh intezaar hai,
Tujhe milkar har pal marne ki,
Yaadein jo taza karni hai.

सुकून तो मौत के दिन भी मैसर कहा,
एक बेचैनी होगी मिजाज में कब्र के सवालात की।
@akram.writes
Sukun toh maut ke din bhi maissar kaha,
Ek bechaini hogi mizaaj mein kabr ke swalat ki.

इतना बुरा भी नहीं हु जितना तुम सोच रहे हो,
ऐसा क्या गुनाह किया मैंने जो मुझे मारने की सोच रहे हो।
@jksin_gh_shayar
Itna bura bhi nahi hu jitna Tum soch rhe ho,
Aaisa kya gunaah kiya meine jo mujhe maarne ki soch rhe ho.

Shayari on Death

Shayari on Death

कई लोग आए थे मेरे पहले,
कई लोग आएंगे मेरे बाद,
कुछ यदा है,
कुछ याद रहेंगे,
लेकिन जिंदा वही था जिसने मरने की वजह जान ली।
– @evengodwillrememberyou
Kai koh aaye the mere pehle,
Kai log aayenge mere baad,
Kuch yaad hai,
Kuch yaad rhenge,
Lekin zinda wahi tha jiske marne ki wajah jaan li.

वैसे दुनिया में आते है सभी मरने के लिए,
पर असल मौत उसकी है जिसका जमाना अफसोस करे।
@binoshayari
Waise duniya mein aate hai sabhi marne Ke liye,
Par asal maut uski hai jiska jamaana afsoos kare.

तूफान आया था कुछ इंसानियत देख के चला गया,
मौत आई थी कुछ बाकी जिंदगी देख कर चली गई।
– @evengodwillrememberyou
Toofan aaya tha kuch insaaniyat dekh ke chala gya,
Maut aayi thi kuch baaki zindagi dekh kar chali gyi.

तुम मुझे रोज–ए–कयामत मिलना,
तुमसे मेरा हिसाब बाकी है।
@nadaan_writes
Tum mujhe roz-e-qayamat milna,
Tumse mera hisab baaki hai.

Shayari on Death - कफ़न शायरी

Shayari on Death – कफ़न शायरी

हर रोज आता हु मरने,
पर हर रोज हिम्मत नही होती,
मौत को जब आना है तब आएगी ही,
खड़ी तो होगी दरवाजे पर लेकिन थोड़ी भी दस्तक नही होगी।
@kuch_khaas_alfaaz_mere
Har roj aata hu marne,
Par har roj himmat nhi hoti,
Maut jo jab aana hai tab aayegi hi,
Khadi toh hogi darwaaze par lekin thodi bhi dastak nhi hogi.

रेशम की चादर ओढ़े सोया था,
आंखें कफन की चादर में जब खुली,
कुछ वक्त ख्वाब समझने लगा था,
हकीकत में ज़िंदगी खत्म हुई।
– @akram.writes
Resham ki chadar odhe soya tha,
Aankhein kafan ki chadar mein jab khuli,
Kuch wakt khwaab samjhne lga tha,
Hakikat mein zindagi khatam hui.

तेरे कुछ ख्वाब जनाजे है मेरी आंखों में,
वो जनाजे जो कभी घर से उठाए ना गए।
– @nadaan_writes
Tere kuch khwaab janaajr hai meri aankhon mein,
Wo janaaje jo kabhi ghar se uthate na gye.

Shayari on Death

Shayari on Death

मिल जाते है ओरों मिटाने वाले,
लाश कहा रोटी है रोते है जलाने वाले।
@nirmalshayar
Mile jaate hai auto mitane wale,
Laash kaha roti hai rote hai jalaane wale.

परवाह नही थी जिसकी तुमको,
उसको ही है अब परवाह तुम्हारी,
जनाब,
कही वो मौत तो नही तुम्हारी।
@maya.mahir_writes
Parwaah nahi thi jiski tumko,
Usko hi hai ab parwaah tumhari,
Janab,
Kahi wo maut toh nahi tumhari.

जिंदगी के सफर एक दिन खत्म हो जाएगी,
मंजिल भी तुम्हें एक दिन मिल जाएगी,
जब साथ हो हमसफर आखिरी मोड़ तक,
यकीन मानो मौत भी तुम्हें सुकून दे जाएगी।
Sam Biwas
Zindagi ke safar ek din khatm ho jayegi,
Manzil bhi tumhe ek din mil jayegi,
Jab sath ho humsafar akhir mod tak,
Yakin mano maut bhi tumhe sukun de jayegi.

Shayari on Death

Shayari on Death

ये जिंदगी कुछ लिए बिना कुछ देता नहीं,
इसके आगे तो आरजू भी हारी है,
ए जाने वाले तुम मौत से क्यों डरते हो,
आज तुम्हारी कल हमारी बारी है।
Raunak Karn
Ye zindagi kuch liye bina kuch deti nahi,
Uske aage toh aarzu bhi haari hai,
Aye jaane waale tum maut se kyun darte ho,
Aaj tumhari kal hmara baari hai.

बेवफा हो गई है तेरी जिंदगी शायरा,
यकीनन अब मौत से मोहब्बत की जाए।
Shayaraa
Bewafa ho gyi hai teri zindagi shayraa,
Yakinan ab maut se mohabbat ki jaye.

सुई सी चुभन और दर्द खंजर सा है,
चारो तरफ बस मौत का मंजर सा है।
Sarvesh Maurya
Suui si chubnan aur dard khanjar sa hai,
Charo taraf bas maut ka manjar sa hai.

Shayari on Death

Shayari on Death

दरिया मोहब्बत की बहुत बड़ी थी,
हम पार ना कर पाए,
वो मीठी सी मौत थी,
हम इंकार ना कर पाए।
Mayank Srivastava
Dariya mohabbat ki bahut badi thi,
Hum paar na kar paye,
Wo mithi si maut thi,
Hum inkaar na kar paye.

मौत का मंजर सा छाया है,
अपना ही अपनो के पास आने से कतराता है।
Harshit asthana
Maut ka manjar sa chaya hai,
Apna hi apni ke paas aane se katrata hai.

दो गज़ ज़मीन सही मेरी मिल्कियत तो है,
ऐ मौत तूने मुझको ज़मींदार कर दिया।
– Rahat Indori
Do ghaz zamin sahi meri milkiyat to hai,
Aye maut tu ne mujhko zamindar kar diya.

एक दिन हम भी कफ़न ओढ़ जायेंगे,
सब रिश्ते इस जमीन के तोड़ जायेंगे,
जितना जी चाहे सता लो मुझको,
एक दिन रोता हुआ सबको छोड़ जायेंगे।
– Unknown
Ek din hum bhi kafan odh jayenge,
Sab rishte iss jameen se tod jayenge,
Jitna jee chaahe sataa lo mujhko,
Ek din rota huya sabko chhod jayenge.

Shayari on Death - Maut Shayari 2 Lines

Shayari on Death – Maut Shayari 2 Lines

तुम मेरी कब्र पे रोने मत आना,
मुझसे प्यार था ये कहने मत आना,
दर्द दो मुझे जब तक दुनिया में हूँ,
जब सो जाऊं तो मुझे जगाने मत आना।
– Unknown
Tum neri qabr pe rone mat aana,
Mujhse pyar tha ye kehne mat aana,
Dard do mujhe jab tak duniya mein hoon,
Jab so jaaun to mujhe jagane mat aana.

यूँ तो हादसों में गुजरी है हमारी ज़िन्दगी,
हादसा ये भी कम नहीं कि हमें मौत न मिली।
– Unknown
Yun to daadson mein gujri hai humari zindagi,
Haadsa ye bhi kam nahi ki humein maut na mili.

ले रहा है तू खुदाया इम्तेहाँ दर इम्तेहाँ,
पर स्याही ज़िन्दगी की खत्म क्यूँ होती नहीं।
– Unknown
Le raha hai tu khudaya imtehaan dar imtehaan,
Par syaahi zindagi ki khatm kyun hoti nahi.

तसव्वुर में न जाने कातिबे-तकदीर क्या था,
मेरा अंजाम लिखा है मेरे आगाज से पहले।
– Unknown
Tasawwur mein na jaane katib-e-taqdir kya tha,
Mera anjaam likha hai mere aagaaz se pahle.

वादे तो हजारों किये थे उसने मुझसे,
काश एक वादा ही उसने निभाया होता,
मौत का किसको पता कि कब आएगी,
पर काश उसने ज़िन्दा जलाया न होता।
– Unknown
Vaade toh hajaaron kiye the usne mujhse,
Kaash ek vaada hi usne nibhaya hota,
Maut ka kisko pata ki kab aayegi,
Par kaash usne zinda jalaya na hota.

Shayari on Death

Shayari on Death

किसी दिन तेरी नजरों से दूर हो जायेंगे हम,
दूर फिजाओं में कहीं खो जायेंगे हम,
मेरी यादों से लिपट कर रोने लगोगे,
जब ज़मीन को ओढ़ कर सो जायेंगे हम।
– Unknown
Kisi din teri najron se door ho jayenge hum,
Dur fizaon mai kahin kho jayenge hum,
Meri yaadon se lipat kar rone aaoge tum,
Jab zamin ko odh kar so jayenge hum.

तमाम उम्र जो हमसे बेरुखी की सबने,
कफ़न में हम भी अजीज़ों से मुँह छुपा के चले।
– Unknown
Tamam umar jo ki humse be-rukhi sab ne,
Kafan mein hum bhi ajeezon se munh chhupa ke chale.

लम्बी उम्र की दुआ मेरे लिए न माँग,
ऐसा न हो कि तुम भी छोड़ दो और मौत भी न आये।
– Unknown
Lambi umar ki duaa mere liye na maang,
Aisa na ho ki tum bhi chhod do aur maut bhi na aaye.

वही तफरीक का आलम है बाद-ए-मर्ग भी यारों,
न कतबे एक जैसे हैं, न कब्रें एक जैसी हैं।
– Unknown
Wahi tafreeq ka aalam hai baad-e-marg bhi yaaro,
Na katbe ek jaise hain, na qabrein ek jaisi hain.

किससे महरूम-ए-किस्मत की शिकायत कीजे,
हमने चाहा था कि मर जायें सो वो भी नहीं हुआ।
– Unknown
Kis se mahroom-e-kismat ki shikayat keeje,
Humne chaha tha ki mar jaayein so wo bhi nahi hua.

Shayari on Death

Shayari on Death

ऐ हिज्र वक़्त टल नहीं सकता है मौत का,
लेकिन ये देखना है कि मिट्टी कहाँ की है।
– Unknown
Ai Hijr Waqt Tal Nahi Sakta Hai Maut Ka,
Lekin Ye Dekhna Hai Ke Mitti Kahan Ki Hai.

अपने क़ातिल की ज़ेहानत से परेशान हूँ मैं,
रोज इक मौत नए तर्ज़ की ईजाद करे।
– Unknown
Apne qatil ki zehanat se pareshan hun main,
Roj ik maut naye tarz ki eejaad kare.

ऐ अज़ल तुझसे यह कैसी नादानी हुई,
फूल वो तोड़ा चमन भर में वीरानी हुई।
– Unknown
Ai azal tujhse ye kaisi nadaani hui,
Phool woh toda chaman bhar mein veerani hii.

आखिरी दीदार कर लो खोल कर मेरा कफ़न,
अब ना शरमाओ कि चश्म-ए-मुन्तजिर बेनूर है।
– Unknown
Aakhiri deedar kar lo khol kar mera kafan,
Ab na sharmaao ki chashm-e-muntzir be-noor hai.

तमाम गिले-शिकवे भुला कर सोया करो यारो,
सुना है मौत किसी को कोई मोहलत नहीं देती।
– Unknown
Tamaam gile-shikwe bhula kar soya karo yaaro,
Suna hai maut kisi ko koi mohalat nahi deti.

Shayari on Death

Shayari on Death

तुम्हारा दबदबा खाली तुम्हारी ज़िन्दगी तक है,
किसी की क़ब्र के अन्दर जमींदारी नहीं चलती।
– Unknown
Tumhara dabdabaa khali tumhari zindagi tak hai,
Kisi ki qabr ke andar zamindari nahi chalti.

मिल जाएँगे कुछ हमारी भी तारीफ़ करने वाले,
कोई हमारी मौत की अफवाह तो उड़ाओ यारों।
– Unknown
Mil jayenge kuchh humari bhi tareef karne wale,
Koi humaari maut ki afwaah to udaao yaaro.

अब तलक हम मुन्तजिर रहे हैं जिनके,
उनको हमारा ख्याल तक न आया,
उनके प्यार में हमारी जान तक चली गयी,
उनको हमारी मौत का मलाल तक न आया।
– Unknown
Ab talak hum muntzir rahe hain jinke,
Unko humara khayal tak na aaya,
Unke pyar mein humari jaan tak chali gayi.

लम्हा-लम्हा साँसें खत्म हो रही हैं,
ज़िन्दगी मौत के आगोश में सो रही है,
उस बेवफा से न पूछो मेरी मौत के वजह,
वही तो कातिल है दिखाने को रो रही है।
– Unknown
Lamha-lamha saansein khatam ho rahi hain,
Zindagi maut ke aagosh mein so rahi hai,
Uss bewafa se na poochho meri maut ki wajah,
Wohi to qatil hai dikhaane ko rahi hai.

Shayari on Death

Shayari on Death

वादे भी उसने क्या खूब निभाए हैं,
ज़ख्म और दर्द तोहफे में भिजवाए हैं,
इस से बढ़कर वफ़ा कि मिसाल क्या होगी,
मौत से पहले मेरा कफ़न ले आये हैं।
– Unknown
Vaade bhi usne kya khoob nibhaye hain,
Zakhm aur dard tohfe mein bhijwaye hain,
Iss se badkar wafa ki misaal kya hogi,
Maut se pehle mera kafan le aaye hain.

चले आओ मुसाफिर
आखिरी साँसें बची हैं कुछ,
तुम्हारी दीद हो जाती तो
खुल जातीं मेरे आँखें।
– Unknown
Chale aao musafir,
Aakhiri saansein bachi hain kuchh,
Tumhari deed ho jaati to,
Khul jaati meri aankhein.

ऐ मौत ठहर जा तू जरा
मुझे यार का इंतज़ार है,
आएगा वो जरूर अगर
उसे मुझसे सच्चा प्यार है।
– Unknown
Ai maut thhahar ja tu jara,
Mujhe yaar ka intezar hai,
Aayega wo jaroor agar,
Usey mujhse sachcha pyar hai.

Shayari on Death

Shayari on Death

अज़ल को दोष दें,
तकदीर को रोयें, मुझे कोसें,
मेरे कातिल का चर्चा क्यों है
मेरे सोगवारों में।
– Unknown
Azal ko fosh dein,
Taqdeer ko royein, mujhe kosein,
Mere qatil ka charcha kyun hai,
Mere sogwaaron mein.

कितना और दर्द देगा बस इतना बता दे,
ऐसा कर ऐ खुदा मेरी हस्ती मिटा दे,
यूँ घुट-घुट के जीने से तो मौत बेहतर है,
मैं कभी न जागूं मुझे ऐसी नींद सुला दे।
– Unknown
Kitna aur dard dega bas itna bata de,
Aisa kar ai khuda meri hasti mita de,
Yoon ghut-ghut ke jeene se maut behtar hai,
Main kabhi na jaagun mujhe aisi neend sula de.

मोहब्बत के नाम पे दीवाने चले आते हैं,
शमा के पीछे परवाने चले आते हैं,
तुम्हें याद आये तो चले आना मेरी मौत पर,
उस दिन तो बेगाने भी चले आते हैं।
– Unknown
Mohabbat ke naam pe deewane chale aate hain,
Shama ke peechhe parrwane chale aate hain,
Tumhein yaad aaye to chale aana meri maut par,
Uss din to begaane bhi chale aate hain.

Shayari on Death

Shayari on Death

हमारे प्यार का यूँ इम्तिहान न लो,
करके बेरुखी मेरी तुम जान न लो,
एक इशारा कर दो हम खुद मर जाएंगे,
हमारी मौत का खुद पे इल्ज़ाम न लो।
– Unknown
Humare pyar ka yoon imtehaan na lo,
Kar ke berukhi meri tum jaan na lo,
Ek ishara kar do hum khud mar jayenge,
Humari maut ka khud pe ilzaam na lo.

अगर कल फुर्सत न मिली तो क्या होगा,
इतनी मोहलत ही न मिली तो क्या होगा,
रोज़ कहते हो कल मिलेंगे कल मिलेंगे,
कल मेरी आँख ही न खुली तो क्या होगा।
– Unknown
Agar kal fursat na mili to kya hoga,
Itni mohlat hi na mili to kya hoga,
Roj kehte ho kal milenge kal milenge,
Kal meri aankh hi na khili to kya hoga.

ऐ मौत तुझे एक दिन आना है भले,
आ जाती शबे फुरकत में तो अहसां होता।
– Unknown
Ai maut tujhe ek din aana hai bhaley,
Aa jati shab-e-furqat mein Tlto ehsaan hota.

वो कर नहीं रहे थे मेरी बात का यकीन,
फिर यूँ हुआ के मर के दिखाना पड़ा मुझे।
– Unknown
Wo kar bahi rahe the meri baat ka yakeen,
Fir yoon hua ke mar ke dikhana pada mujhe.

Shayari on Death

Shayari on Death

तू बदनाम ना हो इसलिए जी रहा हूँ मैं,
वरना मरने का इरादा तो रोज होता है।
– Unknown
Tu badnaam na ho isliye jee raha hoon main,
Varna marne ka irada to roj hota hai.

चंद साँसे बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो,
झूठा ही सही एक बार मगर तुम प्यार दे दो,
ज़िन्दगी तो वीरान थी मौत भी गुमनाम ना हो,
मुझे गले लगा लो फिर चाहे मौत हजार दे दो।
– Unknown
Chand saansein bachi hain aakhiri deedar de do,
Jhoothha hi sahi ek baar magar pyaar de do,
Zindagi to veeran thi par maut to gumnaam na ho,
Mujhe gale laga lo fir chahe maut hajaar D
De do.

Shayari on Death

जरा चुपचाप तो बैठो कि दम आराम से निकले,
इधर हम हिचकी लेते हैं उधर तुम रोने लगते हो।
– Unknown
Jara chup-chap to baithho ki dum aaram se nikle,
Idhar hum hichki lete hain udhar tum rone lagte ho.

खबर सुनकर मरने की वो बोले रक़ीबों से,
खुदा बख्शे बहुत-सी खूबियां थीं मरने वाले में।
– Unknown
Khabar sunkar marne ki wo bole raqeebo se,
Khuda bakhse bahut si khoobiyan thi marne wale mein.

कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता,
किसी की बर्बादी का किस्सा सुनाया नहीं जाता,
एक बार जी भर के देख लो इस चहेरे को,
क्योंकि बार बार कफ़न उठाया नहीं जाता।
– Unknown
Kitna dard hai dil mein dikhaya nahi jata,
Kisi ki barbadi ka kissa sunaya nahi jata,
Ek baar jee bhar ke dekh lo iss chehre ko,
Kyunki baar baar kafan uthaya nahi jata.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *